Ayushman Sahakar Scheme 2022।आयुष्मान सहकार योजना। GET RIGHT NOW

Ayushman Sahakar Scheme 2022: -19 अक्टूबर, 2020 को कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय द्वारा, राष्ट्रीय सहकारी विकास निगम (एनसीडीसी) के तहत शुरू की गई, आयुष्मान सहकार देश के भीतर स्वास्थ्य सेवा के बुनियादी ढांचे के विकाश व निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए सहकारी समितियों की सहायता करने के लिए एक महत्वपूर्ण कदम है।आज के इस लेख के माध्यम से हम आयुष्मान सहकार योजना से होने वाले लाभ तथा उद्देश्यों के बारे में विस्तार पूर्वक चर्चा करेंगे की यह भारत में स्वास्थ्य सेवा के फील्ड को कैसे लाभ पहुंचाएगा। जाने सुकन्या समृद्धि योजना के बारे में यहां क्लिक करें- CLICK HERE

Ayushman Sahakar Scheme 2022।आयुष्मान सहकार योजना

इस आयुष्मान सहकार योजना के अंतर्गत ग्रामीण इलाकों में अस्पताल एवं मेडिकल कॉलेज मल्टी स्पेशलिटी हॉस्पिटल खोलने के लिए सहकारी समितियों द्वारा कर्ज उपलब्ध कराने के लिए इस योजना को लाया गया है।इस योजना के अंतर्गत दिया जाने वाला कर्ज रियायती दरों राष्ट्रीय कोऑपरेटिव विकास निगम द्वारा मुहैया कराया जाएगा ग्रामीण क्षेत्रों में जिस स्थान पर सरकारी स्वास्थ्य की सेवाएं उपलब्ध नहीं हो पाई है उन जगहों पर भी स्वास्थ्य सेवाओं को पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया है।

आयुष्मान सहकार योजनाके अंतर्गत यह प्रावधान किया गया है कि 9.6% की ब्याज दर पर एलोपैथी या आयुर्वेदिक अस्पताल, मेडिकल कॉलेज, मेडिकल लैब,diagnostic centre, अधिक दवा केंद्र खोलने के लिए  कम ब्याज दर पर आसानी से ऋण मुहैया कराया जाएगा।इस योजना के अंतर्गत केंद्र सरकार मेडिकल और डेंटल कॉलेज,nursing  व पैरामेडिकल कॉलेज खोलने का विचार कर रही है।

अधिक जानकारी के लिए आप योजना के आधिकारिक वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं,अधिकारिक वेबसाइट का लिंक नीचे  दिया गया है- www.ncdc.in

वर्तमान सरकार का उद्देश्य वर्ष 2048 तक भारत को विकासशील देश की श्रेणी से बाहर और विकसित देश की श्रेणी में लाना है। इसके लिए केंद्र सरकार विभिन्न सुधार ला रही है, इसी क्रम में सरकार कई महत्वाकांक्षी योजनायें चला रही है। स्वास्थ्य क्षेत्र में सुधार के लिए आयुष्मान योजना और स्वास्थ्य क्षेत्र के बुनियादी ढांचे को विकसित करने के लिए आयुष्मान सहकार जैसी योजनाएं चला रही है। आयुष्मान सरकारी योजना के बारे में जानकारी के लिए यहां क्लिक करें

 Ayushman Sahakar Scheme 2022

योजना का नाम Ayushman Sahakar Yojana
वर्ष 2022
किसके द्वारा शुरू की गई केंद्र सरकार द्वारा
योजना का उद्देश्य ग्रामीण इलाकों के हेल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करना
योजना के लाभार्थी देश के ग्रामीण लोग
आरंभ तिथि 19 अक्टूबर, 2020
आवेदन का प्रकार राज्य ,केंद्र शासित प्रदेश,स्थानीय निकाय के माध्यम से 
सहायता राशि  10 हज़ार करोड़ रुपए तक
आधिकारिक वेबसाइट http://www.ncdc.in
मंत्रालय कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय

 

भारतीय संविधान में भी (97th संशोधन) एक्ट 2011 में एक नया पार्ट (9B) समितियों के संबंध में जोड़ा गया है इसके बाद एक (DPSP) भी संविधान में ऐड किया जा चुका है, आर्टिकल (43B) जिसमें सहकारी समितियों के प्रमोशन के बारे में जिक्र किया गया है।

सहकारी संस्था क्या होती है?

जैसा कि दोस्तों नाम से ही पता चल रहा है सहकारी मतलब साथ मिलकर काम करने वाली संस्था सरकारी संस्था में कोई भी व्यक्ति अपने निजी फायदे के लिए कार्य नहीं करता है अभी तो वह कई लोगों का ग्रुप है लोग एक दूसरे का मदद करते हैं तथा जो इससे उन्हें लाभ होता है उन्हें वे आपस में बांट लेते हैं।अर्थात सहकारी संस्था के सदस्य एक दूसरे को लाभ पहुंचाने के लिए कार्य करते हैं। सहकारी संस्था के सदस्य आवश्यक संसाधनों को इकट्ठा करते हैं तथा इसे किसी निश्चित उद्देश्य को पूर्ण करने के लिए इस्तेमाल करते हैं।

इस तरह की सहकारी संस्था देशभर में चलाई जाती हैं इनका सर्वाधिक उपयोग ग्रामीण इलाकों में किया जाता है। गांव के स्थानीय लोग इस प्रकार की संस्थाओं से आसानी पूर्वक कर्ज पाए जाते हैं, यहां से मिलने वाले कर्ज पर बहुत ज्यादा ब्याज दर नहीं होता है अतः ग्रामीण  के लोग इसे आसानी से वाहन कर लेते हैं।

जाने प्रधानमंत्री प्रधान मंत्री स्टार्टअप योजना के बारे में-यहाँ क्लिक करें

Start Up India scheme2022।स्टार्टअप योजना2022।APPLY NOW

 

सरकारी संस्थाएं स्थानीय स्तर पर दुग्ध उत्पादन,  मत्स्य उत्पादन, लघु उद्योग, कुटीर उद्योग, तथा ग्रामीण इलाकों के अन्य छोटे-बड़े कार्यों को संपन्न कराने में एक अहम भूमिका निभाते हैं।

दोस्तों भारत में कुछ सहकारी संस्थाएं अस्पताल को भी चलाती हैं, पूरे भारतवर्ष में 52 ऐसे हॉस्पिटल मौजूद है  जिसे सहकारी संस्थाओं द्वारा चलाया जाता है। सरकार ने इनकी तरफ ध्यान खींचते हुए इनके साथ मिलकर काम करने की योजना बना रही है जिसके अंतर्गत वह ग्रामीण इलाकों में सहकारी समितियों के साथ मिलकर स्वास्थ्य के क्षेत्र में इंफ्रास्ट्रक्चर को बढ़ावा देने पर विचार विमर्श कर रही है।

क्योंकि इन सहकारी समितियों के पास ग्रामीण इलाकों में  अपनी सेवाएं देने का बढ़िया अनुभव है, इसी को देखते हुए सरकार इन संस्थाओं के साथ कदम से कदम मिलाने पर विचार कर रही है, सहकारी समितियों की मदद से सरकार ग्रामीण इलाकों में अस्पताल, पैरामेडिकल कॉलेज आदि के निर्माण पर विचार कर रही है। कोरोनावायरस एक महामारी के दौरान ग्रामीण इलाकों के इंफ्रास्ट्रक्चर पर देश दुनिया का ध्यान आकर्षित हुआ था, वहां की स्वास्थ्य सुविधाएं बहुत बुरी तरह से चरमरा गई थी इस समस्या का समाधान करने के लिए भी सरकार सरकारी समितियों का मदद चाहती है।

Ayushman Sahakar Scheme 2022।आयुष्मान सहकार योजना

इन्हीं सभी बातों को ध्यान में रखते हुए सरकार ने आयुष्मान सहकार योजना की शुरुआत की है इस योजना का शुरुआत केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर व केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री पुरुषोत्तम रुपाला जी द्वारा शुरू किया गया है।

NCDC क्या है ?

एनसीडीसी देश के सरकारी समितियों को वित्तीय मदद पहुंचाने वाली एकमात्र संवैधानिक संगठन है, 13 सन 1963 में इसकी स्थापना संसद में एक बिल पास कर के की गई थी।जैसा कि दोस्तों हम सभी को पता है भारतवर्ष की बहुत बड़ी आबादी ग्रामीण इलाकों में निवास करती है। अतः इन इलाकों की मदद करने के लिए किसी समिति की आवश्यकता देश को थी। एनसीडीसी सहयोग, संगठन और कार्यप्रणाली, वित्तीय प्रबंधन, प्रबंधन सूचना प्रणाली, चीनी, तिलहन, कपड़ा, फल और सब्जियां, डेयरी, पोल्ट्री और पशुधन, मत्स्य पालन, हथकरघा,सिविल इंजीनियरिंग, प्रशीतन और संरक्षण के क्षेत्रों में तकनीकी और प्रबंधकीय दक्षताओं से सुसज्जित किया गया है।संगठन की नीतियों और कार्यक्रमों को तैयार करने के लिए निगम का प्रबंधन 51 सदस्यीय सामान्य परिषद और दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों को निष्पादित करने के लिए 12 सदस्यीय प्रबंधन बोर्ड में निहित है।

आयुष्मान सहकार योजना की धारणा मुख्य तौर पर कहां से ली गई है?

आयुष्मान सहकार योजना मुख्य तौर पर केरल मॉडल पर आधारित है जहां सहकारी समितियों ने केरल के स्वास्थ्य के क्षेत्र में सुधार करने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की है।केरल राज्य की बात किया जाए तो वहां की शिक्षा व्यवस्था भी काफी हद तक बेहतर है। वहां की सरकार द्वारा जब सहकारी समितियों को प्रोत्साहन दिया गया तो यह सरकारी समितियां ग्रामीण इलाकों तक स्वास्थ्य सुविधाओं को पहुंचाने में काफी सफलता हासिल की। अतः यह केरल मॉडल पूरी तरह से सफल हुआ था। इसी तर्ज पर केंद्र सरकार ने भी आयुष्मान सहकार योजना चलाकर ग्रामीण इलाकों में स्वास्थ्य सुविधाओं को पहुंचाने के लिए प्रयास कर रही है।

एनसीडीसी(NCDC) द्वारा चलाई जाने वाली यह योजना राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति 2017 पर ध्यान केंद्रित करने के साथ ही साथ अपने सभी आयामों में स्वास्थ्य प्रणाली को आकार देने के उद्देश्य से स्वास्थ्य सुविधाओं में निवेश, स्वास्थ्य सेवाओं के संस्थान, प्रौद्योगिकियों तक पहुंच, बनाने मानव संसाधन विकास, हेतु किसानों को सस्ती स्वास्थ्य देखभाल व बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने इत्यादि को सम्मिलित करना  प्रस्तावित है।

प्रधानमंत्री आयुष्मान सहकार योजना के अंतर्गत एनसीडीसी सहायता के लिए  राज्य सरकारों, केंद्र शासित क्षेत्रों के प्रशासन के माध्यम से या योग्य सहकारितायों को प्रत्यक्ष रूप से प्रदान की किया जाना प्रस्तावित है,ये सहकारितायें  अन्य स्रोतों से सब्सिडी अथवा अनुदान का लाभ भी उठा सकती हैं। जाने प्रधानमंत्री सुकन्या समृधि योजना(SSY)-2022 के बारे में यहाँ क्लिक

प्रधानमंत्री आयुष्मान सहकार योजना के अंतर्गत एनसीडीसी सहायता के लिए  राज्य सरकारों, केंद्र शासित क्षेत्रों के प्रशासन के माध्यम से या योग्य सहकारितायों को प्रत्यक्ष रूप से प्रदान की किया जाना प्रस्तावित है,ये सहकारितायें  अन्य स्रोतों से सब्सिडी अथवा अनुदान का लाभ भी उठा सकती हैं।

Ayushman Sahakar Scheme 2022

अब तक एनसीडीसी केवल किसानों की फसलों का उत्पादन बढ़ाने का काम करता था। लेकिन सरकार इन सहकारी समितियों को एनसीडीसी की मदद से विश्व स्वास्थ्य संगठन की देखरेख में(विश्व स्वास्थ्य संगठन के मानक के अनुसार) स्थानीय स्तर पर स्वास्थ्य सुविधाओं के बुनियादी ढांचे को विकसित करने की कोशिश कर रही है, इसके लिए सरकार राज्य सरकार व केंद्र शासित क्षेत्रों के साथ सहयोग कर रोडमैप तैयार कर रही है।

आयुष्मान सहकार योजना के तहत उन क्षेत्रों को कुछ अतिरिक्त छूट देने का प्रस्ताव है जहां महिला सहकारी समितियों की बहुतायत है। इस योजना के तहत उपलब्ध ऋण की अवधि 8 वर्ष तक की होगी और 1 से 2 वर्ष की मोहलत अवधि भी दी जाएगी।मोहलत अवधि प्रोजेक्ट के प्रकार पर निर्भर करेगा यदि प्रोजेक्ट से रेवेन्यू जनरेट करने की संभावना दिख रही होगी तो उसे मोहलत आसानी से मिल जाएगी।

और पढ़े-

हम उम्मीद करते हैं दोस्तों के आज के लेख में आपको बहुत सारी जानकारियां मिली होगी।यदि इसी तरह आप किसी अन्य विषय पर जानकारी चाहते हैं तो आप हमें कमेंट बॉक्स में लिख सकते हैं हम अगला लेख उस विषय पर लिखने का प्रयास करेंगे।

Leave a Comment